IPL 2021: क्या खिताबी जीत का चौका लगा पाएगी चेन्नई सुपरकिंग्स ?

6 days ago 2
चेन्नई सुपरकिंग्स आईपीएल इतिहास की सबसे ज्यादा फाइनल खेलने वाली टीम है। यह टीम हर सीजन दमदार प्रदर्शन करती है और विरोधी टीमों को मात देती है। इस टीम ने अबतक आईपीएल इतिहास में 11 सीजन खेलें है जिसमें से 8 बार फाइनल खेला है और 3 बार खिताब जीता है। साल 2020 का आईपीएल चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए अच्छा नहीं गया। इस टीम के साथ इतिहास में पहली बार हुआ जब वह इस टूर्नामेंट के प्लेऑफ में क्वालीफाई नहीं कर पाई। महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में इस टीम के सामने बड़ी से बड़ी टीमें घुटने टेक देती है। लेकिन यूएई में हुए आईपीएल में जिस तरह से टीम ने खेल दिखाया वो काफी निराशाजनक रहा। इस साल आईपीएल भारत में वापस आ गया है। हर टीम की सबसे बड़े ताकत उनकी गेंदबाजी, बल्लेबाजी या फील्डिंग होती है लेकिन सही मायनों में इस टीम की सबसे बड़ी ताकत टीम की फैन फॉलोविंग है। चेन्नई का चेपॉक इनका गढ़ है और यहां इन्हें हराना अभेद किले को भेदने जैसा है। ऐसे में इस बार जब आईपीएल में दर्शकों की एंट्री नहीं होगी और चेन्नई अपने घर में मैच नहीं खेलेगी तो देखना होगा कि टीम का प्रदर्शन किस तरह का रहता है। 

इसे भी पढ़ें: क्या जीत की हैट्रिक लगाने को तैयार है मुंबई इंडियंस, जानिए इस टीम की कमजोरी और ताकत ?

चेन्नई सुपरकिंग्स की असली ताकत क्या है ?
इस टीम को जो बात सबसे खास बनाती है वो टीम का मौहाल है। इस टीम के अंदर खिलाड़ियों की क्षमता पर पूरा भरोसा दिखाया जाता है। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पूरे टीम की कमान अपने हाथों में लेते हैं। मैदान हो या फिर मैदान से बाहर इस टीम के खिलाड़ियों के बीच एक अलग तरह का जुड़ाव नजर आता है। इस टीम के खिलाड़ियों को अपने उपर पूरा भरोसा रहता है कि कोई ना कोई खिलाड़ी मैच जरूर निकाल लेगा। इसके अलावा इस टीम के पास धोनी जैसा कप्तान है जो मैदान पर हर बड़े फैसले चालाकी से लेता है और अपने चक्रव्यूह में दूसरी टीमों को फंसा लेता है। धोनी को पता है कि कैसे हारी हुई बाजी को पलटना है और इसी के बलबूते टीम 3 बार फाइनल जीती और 8 बार फाइनल खेल चुकी है।

टीम के पास मैच बदलने वाले खिलाड़ियों की भरमार है
आईपीएल 14 में चेन्नई सुपरकिंग्स ने कई नए खिलाड़ियों पर दांव लगाया है। इस टीम ने कृष्णप्पा गौथम को शामिल किया इसके अलावा मोईन अली को भी टीम में चुना। यह खिलाड़ी चेन्नई के लिए फायदे का सौदा हो सकते है। इसके अलावा इस बार टीम में सुरेश रैना की वापसी भी हुई है। पिछले सीजन टीम के लिए फॉफ ड्यू प्लेसिस और सैम करन जैसे खिलाड़ी ने दमदार प्रदर्शन किया। युवा खिलाड़ी ऋतुराज गायकवाड़ ने भी सीजन खत्म होते होते अपना दमखम दिखाया था। ऐसे में उम्मीद है कि इस सीजन रैना के जुड़ने से टीम और ज्यादा मजबूत हो जाएगी। इसके अलावा अगर टीम के ऑलराउंड डिपार्टमेंट की बात की जाए तो वहां रवींद्र जडेजा का होना सबसे अच्छी बात है। जडेजा इस टीम के लिए गेंद और बल्ले दोनों से मैचविनर बन सकते हैं। जडेजा ने जिस तरीके से पिछले कुछ सालों में अपनी बल्लेबाजी में सुधार किया है वो इस टीम के लिए फायदे का सौदा हो सकता है। वहीं आखिर में महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग इस टीम के सफलता में सबसे बड़ी जरूरत है। धोनी पिछले लंबे समय से मैदान से दूर है वह इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले चुके है ऐसे में उन्हें आईपीएल में अगर टीम को चौथी बार खिताब जिताना है तो बल्ले से पुराने माही वाले अवतार में लौटना होगा।

इसे भी पढ़ें: धोनी ने मुझे धीमे बाउंसर, कटर डालने को कहा और इसका फायदा हुआ: नटराजन

चेन्नई सुपरकिंग्स की कमजोरियां क्या है ?
कई बार एक टीम की ताकत ही उसकी कमजोरियों में तब्दील हो जाती है और इस सीजन डर है कि चेन्नई सुपर किंग्स के साथ ऐसा ना हो। चेन्नई की टीम में इस सीजन स्पिनर्स की भरमार है। टीम के पास इमरान ताहिर, रवींद्र जडेजा, कर्ण शर्मा, आर साई किशोर, मिचेल सेंटनर, मोईन अली और कृष्णप्पा गौतम के रूप में ढेर सारे स्पिनर्स मौजूद है। ऐसे में अब जब टीम अपने लीग मुकाबले चेपॉक में नहीं खेलेगी तो यह परेशानी का कारण बन सकते है। क्योंकि चेन्नई सुपर किंग्स को अपने शुरूआती पांच मैच मुंबई, अपने चार दिल्ली और फिर बचे मैच कोलकाता और बैंगलुरू में खेलने हैं। ऐसे में अगर सही मायनों में देखें तो टीम के स्पिनर्स को दिल्ली में मदद मिलती दिखाई देती है। इसलिए अगर चेन्नई के स्पिनर्स फेल हुए तो इस टीम के कई फार्मूले फेल हो जाएंगे। क्योंकि इतिहास गवाह है कि जब भी चेन्नई ने आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया तो स्पिनरों का बोलबाला रहा है इसी की वजह से हर साल इस टीम के पास बेहतरीन स्पिन अटैक होता है। ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि इस सीजन कैसे चेन्नई अपने स्पिनर्स से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करवा सकती है। इसके अलावा अगर चेन्नई के लिए कुछ कमजोरी का विषय बन सकता है तो टीम में एक तेज रफ्तार वाले गेंदबाज की कमी है जो मैच में 145-150 कि.मी की रफ्तार से गेंदबाजी कर सकें। टीम के पास तेज गेंदबाज के रूप में बढ़िया लाइनलेंथ वाले गेंदबाज जॉश हेजलवुड थे लेकिन उन्होंने आईपीएल से अपना नाम वापिस ले लिया। ऐसे में लुंगी एनगिडी, दीपक चाहर, शार्दुल ठाकुर जैसे तेज गेंदबाजों की बदौलत टीम को जीत तलाशनी होगी।

आईपीएल 2021 में चेन्नई सुपरकिंग्स की स्कवॉड-
महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान/विकेटकीपर), फैफ डु प्लेसी, ऋतुराज गायकवाड़, सुरेश रैना, अंबाती रायुडू, एन जगदीशन, रॉबिन उथप्पा, रविंद्र जडेजा, सैम करन, ड्वेन ब्रावो, कर्ण शर्मा, लुंगी एनगिडी, केएम आसिफ, मोईन अली, कृष्णप्पा गौतम, चेतेश्वर पुजारा, हरिशंकर रेड्डी, भगत वर्मा, हरी निशांत, आर साई किशोर, मिचेल सैंटनर, इमरान ताहिर, दीपक चाहर, शार्दुल ठाकुर।

- आयशा आलम
Read Entire Article