मोदी रामलला के दर्शन करने वाले पहले प्रधानमंत्री बने, साष्टांग प्रणाम किया; पहले हनुमान गढ़ी में भी पूजा की, अयोध्या राममय हुई

6 months ago 555

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में 12 बजकर 44 मिनट 8 सेकंड पर शुभ मुहूर्त में राम मंदिर की नींव रखी। इससे पहले चांदी की 9 शिलाओं का पूजन किया गया। अयोध्या पहुंचकर सबसे पहले उन्होंने हनुमान गढ़ी जाकर दर्शन किए और आरती उतारी। मंदिर के मुख्य पुजारी जीपी महाराज ने उन्हें चांदी का मुकुट और वस्त्र भेंट किए। इसके बाद, मोदी ने रामलला के दर्शन किए। वे रामलला के दर्शन करने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। उन्होंने रामलला मंदिर में साष्टांग प्रणाम किया।

उधर, अयोध्या राममय हो गई है। शहर में उत्सव जैसा माहौल है। शहर में जगह-जगह राम के गीतों के साथ चरणामृत बांटा जा रहा है। अयोध्या से ऐसी ही तस्वीरें आईं...

भूमिपूजन में प्रार्थना के दौरान ध्यान की मुद्रा में प्रधानमंत्री मोदी।भूमिपूजन के उपलक्ष्य में शृंगेरी के शंकराचार्य द्वारा भेजा गया ताम्रपत्र।एक और पंडित भूमि पूजन करवा रहे थे दूसरी तरफ सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल रखा था।भूमि पूजन के दौरान मोदी से चर्चारत संघ प्रमुख मोहन भागवत।मोदी और संघ के पदाधिकारियों की मौजूदगी में यहां भूमि पूजन किया गया।पंडितों की सहायता से भूमिपूजन से जुड़ी प्रक्रिया को पूरा करते प्रधानमंत्री मोदी।भूमि पूजन के बाद मोदी ने पूजन स्थल की धुनी को माथे से लगाया।भूमि पूजन में 9 शिलाओं का पूजन हुआ। मोदी ने माटी को सिर से लगाया।भूमि पूजन के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने 35 मिनट की स्पीच दी। इससे पहले उन्होंने रामलला को प्रणाम किया।मोदी ने राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण के लिए अभिजीत मुहूर्त में भूमि पूजन किया।भूमि पूजन में मोदी के साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत भी शामिल हुए।भूमि पूजन में 9 शिलाओं का पूजन हुआ। बीच में कूर्म शिला है। इस शिला के ऊपर रामलला विराजमान हुए।राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए चांदी का फावड़ा और कन्नी का इस्तेमाल किया गया।भूमि पूजन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखा गया। इस दौरान सभी लोग दो गज की दूरी पर बैठे।भूमि पूजन के पहले पीएम मोदी ने राम मंदिर परिसर में पारिजात का पौधा भी लगाया।मोदी ने रामलला के दर्शन किए। वे मंदिर में करीब 10 मिनट रहे।प्रधानमंत्री ने रामलला की आरती भी की।भूमि पूजन के दौरान बाबा रामदेव, स्वामी चिदानंद सरस्वती और अन्य साधु-संत।कोरोना की वजह से भूमि पूजन समारोह में सिर्फ 175 लोगों को आमंत्रित किया गया। इनमें देश की कुल 36 आध्यात्मिक परंपराओं के 135 संत शामिल हुए।संघ प्रमुख मोहन भागवत (सफेद मास्क लगाए) ने भूमि पूजन के पहले संत और आध्यात्मिक गुरुओं से मुलाकात की।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हनुमान गढ़ी के दर्शन किए।10वीं शताब्दी के हनुमान गढ़ी मंदिर के मुख्य पुजारी जीपी महाराज ने उन्हें चांदी का मुकुट भेंट किया।मोदी हनुमान गढ़ी मंदिर में करीब 15 मिनट रहे।अयोध्या पहुंचने पर प्रधानमंत्री मोदी का हेलिपेड पर सीएम योगी ने अभिवादन किया।उमा भारती भी राम मंंदिर के भूमि पूजन स्थल पहुंचीं। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका अभिवादन किया। पहले उमा ने कहा था कि वे कोरोना की वजह से सरयू तट पर रहेंगी।यह फोटो भूमि पूजन के स्थल का है। बाबा रामदेव समेत कई साधु संत सुबह ही यहां पहुंच गए। 175 लोगों को इस कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया गया।अयोध्या की सड़कों पर जगह-जगह रंगोली बनाई गई है।भूमि पूजन के पहले मंदिरों और प्रमुख जगहों को सैनिटाइज किया गया।रामलला का आज विशेष शृंगार किया गया है। उन्हें अभी चीड़ की लकड़ी और कांच से बने मंदिर में स्थापित किया गया है।

ये भी पढ़ सकते हैं...

1. अयोध्या में मोदी बोले- मेरा आना स्वाभाविक था, क्योंकि राम काज कीन्हे बिनु मोहि कहां विश्राम; सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है

2. होइहि सोइ जो राम रचि राखा, मोदी ने 31 साल पुरानी 9 शिलाओं से राम मंदिर की नींव रखी; 40 मिनट चला भूमि पूजन

3. मोहन भागवत ने कहा- आज सदियों की आस पूरी होने का आनंद है, भारत को आत्मनिर्भर बनाने का अनुष्ठान पूरा हुआ



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें पीएम मोदी ने रामलला की मूर्ति के सामने साष्टांग प्रणाम किया।
Read Entire Article